वैश्विक स्तर पर आईवीएफ (IVF) की औसत सफलता दर 50 प्रतिशत से कम है। इसका मतलब है कि आईवीएफ से गुजरने वाले लगभग आधी महिलाएं गर्भवती ही नहीं होती हैं और दुर्भाग्य से, आपका डॉक्टर हमेशा आपको आईवीएफ की विफलता के कारणों (reason for failed IVF) को बताने में सक्षम नहीं होता है।

आईवीएफ (IVF) एक महंगी प्रक्रिया है परन्तु इसमें सफलता की कोई गारंटी नहीं है। एक बार जब आप आईवीएफ की वास्तविक लागत (IVF cost) का  इंतजाम कर लेते हैं हैं, तो सबसे महत्वपूर्ण चिंता आमतौर पर सफलता की संभावना के बारे में होती है। क्योंकि आप लाखो रुपए खर्च करने के बाद निराश नहीं होना चाहते।

तो फिर घबराये नहीं; यदि आप आईवीएफ के विफल होने के कारणों (reasons for failed IVF) को समझते हैं और चिकित्सक के साथ अपनी स्थिति पर चर्चा करते हैं, तो आपको आगे का रास्ता खोजने में आसानी होगी ।

Table Of Content

  1. Embryo implantation failure

  2. Quality Of Eggs

  3. Female Age & Ovarian Response

  4. Quality Of Sperm

  5. Takeaway

आईवीएफ फेल क्यों होता है? (Reasons For Failed IVF?)

आपके द्वारा चुने गए आईवीएफ क्लिनिक, लैब, प्रक्रिया करने की विधि, डॉक्टर का अनुभव और कौशल या, भ्रूणविज्ञानी (embryologist) की क्षमता सभी कारक हैं जो आपके आईवीएफ परिणामों को प्रभावित कर सकते हैं लेकिन आईवीएफ के 50 प्रतिशत से अधिक मामले विफल हो जाते हैं, भले ही ये स्थितियां परिपूर्ण हों।

यदि आप best IVF Centre चुनने के बाद भी सोच रहे हैं कि मेरा आईवीएफ क्यों विफल हो गया, तो व्यक्तिगत कारकों का पता  लगाने के लिए नीचे पढ़ें।

अधिकांश जैविक प्रक्रियाओं की तरह, गर्भावस्था और मानव गर्भ के अंदर भ्रूण का विकास एक जटिल प्रक्रिया है। आईवीएफ की विफलता के कारणों को देखते हुए, प्रजनन विशेषज्ञ (fertility expert) कुछ विशिष्ट कारकों की पहचान करने में सक्षम हुए हैं जो इसके लिए जिम्मेदार हो सकते हैं:

 

1.भ्रूण आरोपण विफलता (Embryo implantation failure)

आईवीएफ प्रक्रिया जटिल है और यह पता लगाने का कोई तरीका नहीं है कि किस चरण में सफलता अवरुद्ध हो रही है। लेकिन आईवीएफ विफलता के सबसे सामान्य कारणों में से एक भ्रूण के गर्भाशय की परत से जुड़ने में विफलता है।

भ्रूण आरोपण विफलता या तो भ्रूण या गर्भाशय की समस्या के कारण हो सकती है, लेकिन यह निश्चित रूप से निर्धारित नहीं किया जा सकता है कि इनमें से कौन सा आपके मामले में विफलता का कारण बना।

अधिकांश बांझपन विशेषज्ञों (infertility doctor) का मानना ​​​​है कि 90 प्रतिशत से अधिक मामलों में एम्ब्र्यो डेवलपमेंट अरेस्ट (EDA) प्रत्यारोपण विफलता (implant failure) के लिए जिम्मेदार है।

बनाए गए भ्रूणों में से कई 5 दिन तक मर जाएंगे, लेकिन अच्छे भ्रूण भी शुरुआती दिनों में जीवित रहते हैं और वास्तव में स्वस्थ दिखते हैं, परन्तु  गर्भाशय में स्थानांतरित होने के बाद कुछ समय में मर जाते हैं।

अब ऐसे कई कारण हैं जिनके परिणामस्वरूप खराब गुणवत्ता, कमजोर भ्रूण हो सकते हैं, जो एक निश्चित चरण से आगे नहीं बढ़ते हैं, लेकिन दुर्भाग्य से इन मुद्दों को अभी भी आईवीएफ की दुनिया मेंब्लैक बॉक्समाना जाता है

आनुवंशिक (genetic) या गुणसूत्र (chromosome) संबंधी असामान्यताएं (abnormalities) कभीकभी आईवीएफ के लिए भ्रूण को बहुत कमजोर बना सकती हैं, जबकि कई  बार भ्रूण में जीवित रहने के लिए पर्याप्त कोशिकाएं नहीं होती हैं और इसके बढ़ने की संभावना नहीं होती है।

आईवीएफ की सफलता की संभावनाओं को बेहतर बनाने का एक तरीका यह है कि आईवीएफ के साथ पीजीएस परीक्षण का विकल्प चुना जाए ताकि भ्रूण को गर्भाशय में स्थानांतरित करने से पहले उसकी आनुवंशिक सामग्री का अध्ययन किया जा सके। यह डॉक्टर को सफलता की सबसे अधिक संभावना वाले भ्रूण का चयन करने की अनुमति देता है।

2.अंडे की गुणवत्ता (Quality of eggs)

35 वर्ष की आयु के करीब महिलाओं में भ्रूण आरोपण दर लगभग 50% होती है, जबकि 40 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में केवल 30

यदि आपका गर्भाशय पूरी तरह से स्वस्थ है, लेकिन अंडों की गुणवत्ता (और परिणामी भ्रूण) पर्याप्त नहीं है, तो अंडा  डोनर के अंडों पर उपयोग करने से आपको सफलता मिलने की अधिक संभावना है।

what-are-the-reasons-for-failed-ivf
what-are-the-reasons-for-failed-ivf

3. महिला आयु और डिम्बग्रंथि प्रतिक्रिया (Female age & Ovarian response)

महिला की उम्र, गर्भाशय का स्वास्थ्य और उसके शरीर द्वारा आईवीएफ दवाओं के प्रति प्रतिक्रिया करने के तरीके भी आईवीएफ की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

आमतौर पर, एक महिला का अंडाशय एक महीने में एक अंडा छोड़ता हैएक संग्रह से जो जन्म के समय तय होता है और 30 के मध्य में तेजी से घटता है।

आईवीएफ चक्र से पहले, अंडाशय को अधिक अंडे देने के लिए दवाएं दी जाती हैं। यदि आपके पास पहले से ही अंडों की संख्या कम है या एफएसएच (FSH) का स्तर ऊंचा है, तो आपका शरीर आईवीएफ दवाओं के लिए ठीक से प्रतिक्रिया नहीं दे सकता है, जो एक अच्छा संकेत नहीं है।

यदि आपका शरीर दवा के प्रति अच्छी प्रतिक्रिया देता है और अधिक अंडे पैदा करता है, तो आपके पास आईवीएफ सफलता की अच्छी संभावना है क्योंकि यह आपके शरीर में हार्मोन के सामान्य कामकाज को इंगित (pointed) करता है। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है, तो आपके आईवीएफ की सफलता की संभावना भी कम हो सकती है।

4. शुक्राणु की गुणवत्ता (Quality of sperm)

शुक्राणु महिला के अंडे के निषेचन में एक जटिल भूमिका निभाते हैं और ऐसा करने के लिए, उन्हें स्वस्थ, गतिशील और पर्याप्त मात्रा में होना चाहिए।

अंडे और शुक्राणु दोनों की सतह पर विशिष्ट रिसेप्टर्स होते हैं जो उनकी इंटरेक्शन (interaction) की अनुमति देते हैं। संपर्क के दौरान, शुक्राणु के सिर से निकलने वाले एंजाइम अंडे की बाहरी झिल्लियों में एक छेद बनाते हैं, जिससे वह अंदर जा सकता है।

Also Read : What To Do After First Failed IVF Cycle?

5. निष्कर्ष (Takeaway)

हालांकि, क्रोमोसोमल कारकों को छोड़कर, शुक्राणु आमतौर पर आईवीएफ की विफलता (IVF failure) के मुख्य कारणों में से नहीं होते हैं क्योंकि वीर्य विश्लेषण (sperm analysis) के दौरान किसी भी मात्रात्मक (quality) या गुणात्मक (quantity) समस्या का पता लगाया जाता है और फिर रोगियों को इंट्रासाइटोप्लास्मिक शुक्राणु इंजेक्शन (आईसीएसआई)/ intracytoplasmic sperm injection (ICSI) या पत्नी दाता शुक्राणु आईवीएफ का विकल्प दिया जाता है।