AMH Test  (एंटी-मुलरियन हार्मोन परीक्षण) एक महिला के ओवेरियन रिजर्व का विश्लेषण करने और पीसीओडी (PCOD), प्रारंभिक मीनोपॉज (early menopause), या कम ओवेरियन रिजर्व जैसी समस्याओं का निदान करने के लिए एक साधारण रक्त परीक्षण है। अतः अगर आप गर्भधारण करने में समस्याओं का सामना कर रही है तो आपका डॉक्टर आपको AMH Test करवाने का सुझाव दे सकता हैं।

पुरुष अपने जीवनकाल में अनंत संख्या में शुक्राणु पैदा कर सकते हैं वहीं दूसरी ओर, महिलाएं अपने पूरे जीवनकाल में सीमित मात्रा में अंडे उत्पन कर सकती हैं। एक बार जब एक महिला का शरीर अंडे उत्पन्न करने की क्षमता खो देती हैं, तो उसके बाद उनके पास स्वाभाविक रूप से गर्भधारण करने का कोई मौका नहीं होता है। (इस समस्या से बचने के लिए आप एग फ्रीजिंग (egg freezing) करवा सकते हैं। एग फ्रीजिंग और इसके बारें में अधिक जानकारी के लिए आप हमारे डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।)

मीनोपॉज के बाद महिलाएं आमतौर पर प्राकृतिक रूप से गर्भधारण करने की क्षमता खो देती हैं। इसलिए, महिलाओं के लिए यह महत्वपूर्ण है कि यदि वे कभी भी बच्चा पैदा करने की योजना बना रही हैं तो उन्हें अपने ओवेरियन रिजर्व की पहचान करनी चाहिए और उसका आकलन करना चाहिए।

 

” नोट- एंटी-मुलरियन हार्मोन परीक्षण (AMH Test) अंडे की शेष मात्रा और फर्टिलिटी की अवधि के बारे में कुछ जानकारी दे सकता है, लेकिन अंडों की गुणवत्ता के बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं है। “

AMH Test क्या है और यह क्या संकेत देता है? (What is anti Anti-Mullerian Hormone and What it indicates)

एंटी-मुलरियन हार्मोन (AMH) एक प्रोटीन हार्मोन है जो फॉलिकल्स (थैलियों जो अंडे को पकड़ते हैं) को अस्तर (cells lining) करने वाली कोशिकाओं द्वारा बनाया जाता है। एएमएच का निम्न स्तर (low level of AMH) कम ओवेरियन रिजर्व का संकेत देता है, जबकि एएमएच का उच्च स्तर (high level of AMH) भविष्य में फर्टिलिटी की संभावना का संकेत देता है।

एएमएच परीक्षण (AMH test) महिला के ओवेरियन रिजर्व का एक अच्छा मूल्यांकनकर्ता साबित हुआ है। एएमएच स्तर (AMH test) आमतौर पर स्थिर होते हैं और मासिक धर्म चक्र या गर्भावस्था या मौखिक गर्भनिरोधक से ज्यादा प्रभावित नहीं होते हैं। इस कारण से, एएमएच टेस्ट पूरे महीने में कभी भी किया जा सकता है।

” नोट- एंट्रल फॉलिकल काउंट (एएफसी) टेस्ट के साथ किए जाने पर एंटी-मुलरियन हार्मोन टेस्ट (AMH test) सटीक परिणाम देता है। ऐसा इसलिए हैं क्युकी एएफसी परीक्षण (AFC test) से अंडों की मात्रा और गुणवत्ता का आकलन किया जाता है। “

आपको AMH Test की आवश्यकता कब होती है?

यदि आपको गर्भधारण करने में कठिनाई हो रही है तो आपको एएमएच परीक्षण (AMH test) की आवश्यकता हो सकती है। एएमएच परीक्षण (AMH test) यह दिखाने में मदद कर सकता है कि आपके गर्भधारण करने की संभावना क्या है। यदि आप पहले से ही एक प्रजनन विशेषज्ञ से सलाह ले रही हैं, तो आपका डॉक्टर यह अनुमान लगाने के लिए एएमएच परीक्षण का उपयोग कर सकता है कि क्या इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) जैसे उपचार के लिए आपका शरीर अच्छी प्रतिक्रिया देंगी या नहीं। AMH टेस्ट तब मददगार साबित होता है जब:-

  • आप छह महीने से अधिक समय से गर्भधारण करने में असमर्थ हैं, और गर्भवती होने की संभावनाओं पर कुछ आश्वासन की तलाश में हैं
  • आप आईवीएफ उपचार (IVF treatment) या अन्य प्रजनन उपचार (fertility treatments) पर विचार कर रहे हैं क्योंकि निम्न एएमएच स्तर आईवीएफ के लिए खराब प्रतिक्रिया का सुझाव देते हैं
  • आप गर्भवती होने की अपनी वर्तमान संभावनाओं को समझना चाहती हैं

 

सामान्य और निम्न AMH स्तर क्या है? (What Is Normal And Low AMH Level?)

एएमएच स्तर (AMH Level)

Value

उच्च स्तर (पीसीओएस की संभावना) 3. 0 ng/ml से अधिक
सामान्य स्तर 1.0 ng/ml से अधिक
सामान्य स्तर से कम 0.7 ng/ml to 0.9 ng/ml
निम्न स्तर 0.3 ng/ml to 0.6 ng/ml
बहुत कम स्तर 0.3 (ng/ml) से कम

 

निम्न AMH स्तर के उपचार के विकल्प क्या हैं? (What are the treatment options for low AMH levels?)

एएमएच के निम्न स्तर से आपको निराश होने की आवश्यकता नहीं है। और इसका कारण यह है कि चिकित्सा प्रौद्योगिकी में विकास बांझपन से परेशान व्यक्ति के लिए कई उपचार विकल्प प्रदान करता है। इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) कम AMH के लिए सबसे प्रभावी उपचार है। आपका डॉक्टर आपके निदान के आधार पर आपके अपने अंडे या डोनर के अंडे का उपयोग करके आईवीएफ उपचार का सुझाव दे सकता है।

AMH Test और गर्भवती होने की संभावनाओं के बारे में अधिक जानने के लिए सबसे विश्वसनीय आईवीएफ केंद्र, Omya IVF Centre in Delhi से जुड़ें। यहां आपको हर तरह के बांझपन का उचित इलाज मिलता है।

Also Read: Ovulation Meaning in Hindi

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ’s)

एएमएच को आपके मासिक धर्म चक्र के किसी भी समय पर मापा जा सकता है, न कि केवल 3 दिन पर, और इस परीक्षण में सटीक रीडिंग प्राप्त करने के लिए सोनोग्राम की आवश्यकता नहीं होती है। प्रारंभिक वयस्कता तक एएमएच का स्तर बढ़ता है और फिर बढ़ती उम्र के साथ धीरे-धीरे कम हो जाता है।
एएमएच परीक्षण एक महिला के ओवेरियन रिजर्व में बचे हुए अंडों का एक उपयोगी संकेतक है। 1.0 ng/mL से 3.0 ng/mL AMH स्तर को सामान्य स्तर माना जाता है। जबकि 0.9 एनजी/एमएल से नीचे को निन्म AMH स्तर माना जाता हैं।
एएमएच स्तर यह दिखाने में मदद करते हैं कि एक महिला के पास कितने संभावित अंडाणु बचे हैं। इसे ओवेरियन रिजर्व के रूप में जाना जाता है। यदि किसी महिला का ओवेरियन रिजर्व अधिक है, तो उसके गर्भवती होने की संभावना बेहतर हो सकती है। तो हाँ आप गर्भधारण कर सकती हैं।
नीचे हमने कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों को सूचीबद्ध किया है जो स्वाभाविक रूप से एएमएच स्तर बढ़ा सकते हैं। ये हैं:-
  • हरे पत्ते वाली सब्जियां। कुछ पत्तेदार सब्जियां जैसे अरुगुला, ब्रोकली
  • बादाम। विभिन्न सूखे मेवे विशेष रूप से बादाम स्वाभाविक रूप से एएमएच स्तर बढ़ाने वाले प्रसिद्ध खाद्य पदार्थों में से एक हैं
  • कद्दू के बीज
  • लहसुन
  • अंडे